पंछी हुए फुर्र

कांटेदार पेड़ पर चिडि़या घोंसला बनाने में जुटी हुई थी। पेड़ में एक कोटर था। कोटर में सांप रहता था। वह चिडि़या को निगलने की ताक में था। एक चूहा…

बेटियां सूरज की

‘‘पौ फटते ही जाते हो और अंधेरा होने पर लौटते हो।’’‘‘हम अपनी माँ को जानते तक नहीं।’’‘‘हमारे नाम तक नहीं हैं।’’‘‘हम बड़ी हो चुकी हैं।’’‘‘हम लायक हैं। हमें काम चाहिए।’’‘‘अब…

पाठशाला भीतर और बाहर, अंक 7 वर्ष 3 मार्च 2021

पाठशाला भीतर और बाहर तिमाही पत्रिका है। इसे अज़ीम प्रेमजी विश्वविद्यालय,बंेगलुरु प्रकाशित करता है। बाल साहित्य के बिना अधूरी है बच्चों की शिक्षा विषय पर सहभागी होने का मुझे भी…

मोज़े हुए उदास

जीनत स्कूल से लौटी। नया स्कूल। नई किताबें। नया बैग। आज बहुत सारी नई चीज़ें आईं थीं। नए जूते और नए मोजे भी आए थे। जीनत ने जूते उतारे। फिर…

‘नया साल, कोरोना और हम’

किसी परिवार का एक सदस्य नहीं, दो नहीं....बल्कि सभी के सभी कोरोना पॉजीटिव हो जाएं तो चिंतित होना स्वाभाविक था। ................... बशीर बद्र साहब को कहाँ पता था कि उनका…

कौन था…!

गिलहरी उचककर पैरों में खड़ी हो गई। बुदबुदाई,‘‘सांप, नेवला, खरगोश और मेढ़क एक साथ हैं! कोई तो वहां है।’’ गिलहरी दबे पांव चलना जानती थी। वह वहां जा पहुंची, जहां…

पास था फेल बताया

-मनोहर चमोली ‘मनु’‘‘हाँ भई। मनोहर का के। अठारह अठे?’’ रतन गुरुजी ने मुझसे पूछा। वह हमेशा हम बच्चों के नाम के आगे ‘का’ और ‘के’ जरूर लगाते थे। यह उनका…

भूत था क्या !!

-मनोहर चमोली ‘मनु’‘‘माही भूत है! भूत!’’ सिया चीखी। रवि ने बिजली जला दी। कमला भी जाग गई। माही ने आँखें मींचते हुए सिया से कहा,‘‘दीदी आपको हर जगह भूत ही…

वाकई ! चहुं ओर कुपात्र-छद्म पाठकों साहित्यकारों का बोलबाला है !

हाल ही में एक संगोष्ठी में जाने का अवसर मिला। देश भर के कथित नामचीन साहित्यकार जुटे थे। अच्छा लगा। कुछ साहित्यकारों ने घर बैठे इंटरनेटी मंच से अपनी बात…

आप रचनाकार हैं तो यह संवाद आपके लिए है।

‘‘मनोहर चमोली जी बोल रहे हैं?’’ ‘‘नमस्कार ! जी बोल रहा हूँ।’’‘‘जी, नमस्ते। मैं ABCD । xyz प्रकाशन का नाम तो सुना होगा आपने?’’‘‘जी जी। क्यों नहीं ! इस पब्लिकेशन…

error: Content is protected !!