किताब: सदाबहार हैं भगत सिंह

ज्ञानमुद्रा पब्लिकेशन समूह के वरुण महेश्वरी ने सम्बद्ध प्रकाशक ‘वंश पब्लिकेशन’ द्वारा प्रकाशित किताब ‘क्रांतिकारी भगतसिंह’ भेंटस्वरूप भेजी है। प्रथमदृष्टया किताब अच्छी है। आवरण, काग़ज़ छपाई उम्दा है। भगत सिंह…

बाल मन में मनुष्यता के बीज बोना हो प्राथमिकता: लोकेश नवानी

बाल साहित्य: अवधारणा एवं उद्देश्य के साथ चुनौतियों पर हुआ विमर्श उत्तराखण्ड का लोकपर्व फूलदेई के अवसर पर आयोजित बाल साहित्य विमर्श पर सभी ने माना कि आज बाल साहित्य…

उत्तराखण्ड का बाल पर्व: त्योहार एक नाम अनेक

उत्तराखण्ड का बाल पर्व: त्योहार एक नाम अनेक कहीं फ्योंली, प्यूँली, फ्यूँली, फूलदेई, बालपर्व, फूल संगराद, फूल सग्यान ,फूल संग्रात, मीन संक्रांति तो कहीं गोगा #पर्व

‘पहाड़ों से निकली पहाड़ों की कहानियाँ’

सुप्रसिद्ध साहित्यकार भगवत प्रसाद पाण्डेय का पहला बाल कहानी संग्रह ‘पहाड़ों से निकली पहाड़ों की कहानियाँ’ सुप्रसिद्ध साहित्यकार भगवत प्रसाद पाण्डेय का पहला बाल कहानियों का संग्रह है। इसका अर्थ…

क़द और कार्य को मिला सम्मान

रेखांकित हुई गणेश खुगशाल ‘गणी’ कृत ‘धाद’ पत्रिका गणेश खुगशाल ‘गणी’ उत्तराखण्ड साहित्य गौरव सम्मान-2023 के लिए चयनित हुए हैं। बधाई ! दरअसल यह उनका सम्मान नहीं राज्य की गढ़वाली…

किताबें करती हैं बातें

उत्तराखण्ड बोर्ड ने गत वर्ष से भाषाई विषयों में 20 अंक आंतरिक मूल्यांकन के लिए निर्धारित कर दिए हैं। सुनना, बोलना, पढ़ना और लिखना कौशलों की जांच भी है। पिछली…

भलमनसाहत की चाँदनी फैलाते हैं राकेश जुगरान

अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैंरुख़ हवाओं का जिधर का है, उधर के हम हैं जी नहीं। निदा फ़ाज़ली ने भले ही यह शेर कमोबेश पलटूओं के…

आवारा मन

इल्म में भी सुरूर है लेकिनये वो जन्नत है जिसमें हूर नहीं। अल्लामा इक़बाल से सहमत हुआ जा सकता है।दिलकश चेहरा। हर समय तरतीब से सँवारा हुआ। सिर पर बालों…