दायित्वबोध पनपाते हैं ‘मॉर्निंग वॉक पर कुत्ते’ के व्यंग्य

-मनोहर चमोली ‘मनु’इन दिनों व्यंग्य के नाम पर दूसरों की खिल्ली उड़ाना और नीचा दिखाना एक शगल बन गया है। व्यक्तिपरक और जातिगत व्यंग्य के नाम पर केन्द्रित पाठक क्षोभ…

कला के प्रति संवेदनशीलता ही मनुष्यता को बचाएगी : जगमोहन बंगाणी

जगमोहन बंगाणी की कूची से बनी पेंटिंग्स भारत से बाहर स्पेन, कोरिया, इंग्लैंड, जर्मनी जैसे देशों में उपस्थित हैं। कला के पारखी समूची दुनिया में हैं और वे अपने घरों-कार्यालयों…

error: Content is protected !!