आम की टोकरी

छह साल की छोकरी,
भरकर लाई टोकरी।

टोकरी में आम हैं,
नहीं बताती दाम है।

दिखा-दिखाकर टोकरी,
हमें बुलाती छोकरी।

हम को देती आम है,
नहीं बुलाती नाम है।

नाम नहीं अब पूछना,
हमें आम है चूसना।
***
 

यह कविता रामकृष्ण शर्मा खद्दर जी की है। यह कविता कक्षा पहली के बच्चे 2006 से लगातार पढ़ रहे हैं। साल 2018 से उत्तराखण्ड के बच्चे भी अब इस कविता को पढ़ेंगे। यह कविता राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद् द्वारा तैयार की गई किताब रिमझिम 1 का हिस्सा है। यह कविता पाठ 3 के क्रम में बच्चे पढ़ रहे हैं।

इस कविता की खास बात यह है कि इसकी पँक्तियों से ‘आ’ और ‘क’ को परिचित कराने के लिए इसे यहाँ विशेष तौर पर रखा गया है। बताता चलूँ कि इससे पहले आए दो पाठों से बच्चे ‘न‘,‘म’,‘अ‘,‘ठ‘,‘ए‘,‘झ‘,‘ल‘,‘ड‘,‘छ‘,‘ई‘ से परिचित हो रहे हैं।

अब कविता पर बात करते हैं। इस कविता में जिस छोकरी की बात की जा रही है हो सकता है कि वह स्कूल न जाती हो। घर की परिस्थितियों के चलते वह फलों के मौसम में फल बेचती हो। यह भी हो सकता है कि वह अनाथ हो। उसे खुद ही अपना नाम न पता हो। यह भी सम्भव है कि यह लड़की जिसका नाम पाठक बच्चे नहीं जानते हैं उनके घर के आस-पास आती हो। उनके गाँव-शहर या मुहल्ले में आती हो। यह भी सम्‍भव है कि ये पाठक बच्चे जिस स्कूल में पढ़ते हैं, यह छोकरी स्कूल समय में, मध्यांतर में या छुट्टी के समय स्कूल के आस-पास आम बेचने मिल जाती होगी।

अब दो बातें और

एक : क्या बच्चे पाठ्यपुस्तक में पाठ के बहाने उन बच्चों के बारे में न सोचें, जो उन्हें आम जीवन में अपने आस-पास दिखाई देते हैं? जो बाजार में, मेलों में, दुकानों में, सड़कों में कुछ न कुछ सामान बेचते नजर आते हैं!

दो : क्या बच्चे उन बच्चों के बारे में चर्चा न करें, जो उनकी उम्र के हैं और स्कूल नहीं आते?
अब आते हैं इस छोकरी शब्द पर। इस शब्द पर कैसी आपत्ति। शब्द क्या हैं? ध्वनि मात्र ही तो हैं। हमें यह समझना होगा कि बहुत सारे नाम,सम्‍बोधन और संज्ञा कई भाषाओं में एक समान हो सकते हैं तो यही कई भाषाओं में गाली के रूप में प्रयोग लाए जाते होंगे। यह कोई जानवरों के मुँह से निकली हुई ध्वनि नहीं हैं कि भारत की बिल्ली हो या जापान की म्याऊँ ही बोलेगी। कुत्ता कहीं का भी हो वो भौंकेगा।

भाषाओं में शब्द और शब्दों से बने वाक्य सन्‍दर्भों के साथ विभिन्न अर्थ देने की सामर्थ्‍य रखते हैं। यह कौन नहीं जानता!

अब यह बताना भी जरूरी होगा कि बुनियादी स्कूलों में खासकर पहली कक्षा में अवलोकन, समझ, अभिनय करते हुए बोलना,समझ कर बोलना,घर से विद्यालय तक आते-जाते दृश्य चित्रों से जुड़ती हुई पठन सामग्री पढ़ना, बच्चों के क्रियाकलापों से खुद को जोड़ना, स्थानीय परिवेश व वातावरण को गहरे से समझना आदि हिन्दी भाषा की पाठ्यचर्या का हिस्सा हैं। इस लिहाज से यह कविता बेहद उपयुक्त, सारगर्भित और बच्चों के जीवन से जुड़ी है। आखिर संवैधानिक मूल्य भी तो यही कहते हैं कि हम केवल अपनी ही न सोंचे। हाशिए के जीवन को भी महसूस करें। संवेदना के स्तर पर चेतना भी बढ़ाएँ।

मैंने यह कविता स्कूल में बच्चों के साथ साझा की। मैंने इसे श्यामपट्ट पर लिखा। पहले मैंने इसे सस्वर पढ़ा। फिर बच्चों से कहा कि इसे एक साथ पढ़ें। बच्चों ने एक साथ इसे पढ़ा। मैंने कहा अब इसे कॉपी पर लिखिए। बच्चों ने कविता कॉपी पर लिखी। फिर सबसे कहा गया कि मौन पठन करिए। बच्चों को कुछ देर कविता से जूझने दिया गया।

अब बगैर भूमिका के और भाव के मैंने बच्चों से कहा कि कविता को पढ़कर समझकर कुछ सवाल बनाने हैं। अपनी-अपनी कॉपी पर। ऐसे सवाल नहीं बनाने हैं कि जवाब एक जैसा आए।
मैंने उदाहरण दिया कि एक जैसा जवाब के दो उदाहरण देता हूँ। एक जैसा जवाब के दो सवाल मैंने श्यामपट्ट पर लिख दिए। वह यह थे-

सवाल : छोकरी कितने साल की है?

सवाल : टोकरी में क्या है?

मैंने बात को विस्तार दिया कि हमें ऐसे सवाल नहीं बनाने हैं जिसका एक जैसा जवाब हो। हमें ऐसे सवाल बनाने हैं जिनके जवाब मन के जवाब हों। जवाब देने वाले को मन से सोचना पड़े। अनुमान और कल्पना के घोड़े दौड़ाकर जवाब खोजना पड़े।

मुझे लग रहा था कि दस पंक्तियों की इस कविता में तीन-चार सवाल ही बन सकेंगे। सवालों में दोहराव अधिक होगा। लेकिन जो सवाल बच्चों ने बनाए वह अद्भुत थे। कुछ खास सवाल (अलग-अलग अनुभव वाले) यहाँ दिए जा रहे हैं-

1.      छोकरी का क्या नाम रहा होगा?

2.      टोकरी में कितने आम रहे होंगे?

3.      वह बच्चों को नाम से क्यों नहीं बुला रही थी।

4.      लड़की आम कहाँ से लाई होगी?

5.      एक टोकरी में कितने आम आ सकते हैं?

6.      छह साल की लड़की कितना वजन उठा सकती है?

7.      पेड़ एक साल छोड़कर आम क्यों देता है?

8.      लड़की आमों के दाम क्यों नहीं बताती?

9.      टोकरी के आम कितने रुपए में बिके होंगे?

10.  ऐसी लड़कियाँ क्या-क्या काम कर सकती हैं?

11.  इस कविता के और क्या-क्या शीर्षक हो सकते हैं?

12.  यदि आम चालीस रुपए किलों हैं तो लड़की के आम कितने के बिके होंगे?

13.  टोकरियाँ किस-किस चीज की बनी होती हैं?

14.  टोकरियों में क्या-क्या चीजें रखी जा सकती हैं?

15.  आम के सीजन के बाद लड़की टोकरी का क्या करती होगी?

16.  लड़की आम के मौसम को छोड़कर क्या बेचती होगी?

यह सवाल बनाने वाले विद्यार्थी कक्षा छह से नौ तक के हैं। राधिका, प्रिया, कंचन, प्रेरणा, खुशी के सवालों में विविधता थी। कुछ सवाल एक जैसे बन पड़े।

आधा घण्‍टा वह भी कविता पर बिना बात किए हुए विद्यार्थियों ने अपने अनुभव से ऐसे सवाल बनाए हैं तो वे जवाब भी दे सकते हैं। मजेदार बात यह है कि ये विद्यार्थी अपने आस-पास के जंगल में हर साल आम को चूसने का लुत्फ उठाते हैं। हमारे स्कूल के ठीक पीछे भी एक विशालकाय घर्या आम का पेड़ है।

कवि रामकृष्ण शर्मा खद्दर जी ने भी सोचा न होगा कि सुदूर उत्तराखण्ड के पौड़ी जनपद के ग्रामीण विद्यालय के बच्चे उनकी कविता पर इतने बेहतरीन सवाल उठा रहे होंगे। अब सोच रहा हूँ कि इस कविता पर छह-सात साल के बच्चे तो मौखिक सवालों की बारिश करेंगे।

***

  • Mukesh Bahugunaछोकरी शब्द गलत है।बालमन में सकारात्मक प्रभाव नहीं छोडेगी4
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुजी, पर प्रकाश डालिएगा कि छोकरी शब्द गलत कैसे है तो हमारी जानकारी भी बढ़ेगी !
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Mukesh Bahugunaयह शब्द गाली के रूप में प्रयोग होता है ।छोकरी शब्द जिसके पिता नहीं हों को अक्सर गांव के लोग प्रयोग करते हैं ।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुछोकरी शब्द गलत है?कैसे?फिर… तो बस भगिनी चलेगा न? या पुत्री,बेटी, दुहिता, कन्या पर…… और देखें
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Sharad Pandeyशब्दों का प्रयोग स्थानानुसार बदल जाता है । छोकरी शब्द में कोई बुराई नहीं है ।1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुयकीनन ..
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajesh Utsahiछोकरा शब्‍द से मेरी चार कविताऍं हैं।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Surender Bisht Sanju6 saal ki jagah 18 saal likh do to kavita adult ho jayegi bas ..#double meaning2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Saroj DeviChokri shi nhi lega1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Ravi Prakash MauryaKavita mien sarthakta naam ki koi cheej nahi hai, bas tukant hai aur jo man mein likh diya gaya hai.Mere hisab se Baal kavita mein sarthakta ke saath-saath jaankari se judi koi baat honi chahiye kyonki maksad bachchho ko sikhana hota hai, na ki betuka manoranjan karna.1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुसिखाना? क्या-क्या सिखाना होता है? रवि जी विस्तार से हमारी जानकारी बढ़ाइएगा।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
  • Khantwal Kamleshछोकरी शब्द की जगह कुछ और हो सकता1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Pramod Dixitयह कविता शायद “रिमझिम” में है। बाकी तो ठीक है पर ‘छोकरी’ उपयुक्त शब्द नहीं।रचनाकार ने भी कभी अपनी बेटी को या पास पडोस की लडकियों या स्कूलों की किसी लडकी को ‘छोकरी’ सम्बोधन नहीं किया होगा। मेरे ख्याल से मनु जी आपने भी अपने स्कूल में किसी लडकी को ऐ छोकरी /ओ छोकरी नहीं कहा होगा न कहेंगे। पर यह एनसीईआरटी की पुस्तक में है तो शान में कसीदे काढे जाते हैं / जायेंगे। भाषा के तमाम प्रशिक्षणों में कविता सत्र में इसे जरूर शामिल करते हैं। एक बार मैंने अपनी बेटी “संस्कृति” को प्रयोग के तौर पर ‘छोकरी’ बोला तो वह नाराज हो गई और बोली पापा आपको क्या हो गया है।3
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • Rajesh Utsahiप्रमोद जी इस कविता पर आपकी यह राय पढ़कर मुझे बेहद दुख हुआ।2
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pramod Dixitउत्साही सर, इस कविता को और इसके विश्लेषण को कई आलेखों में पढा, पर ‘छोकरी’ शब्द से कभी सहमत नहीं हो पाया। मैं प्रयोगधर्मी व्यक्ति हूं। ‘छोकरी’ शब्द प्रयोग व्यवहार में मैंने अपने दैनंदिन जीवन में कई बार किया है। और उसलडकी एवं लोगों की प्रतिक्रिया ने मुझे हतोत्साहित किया है। आज भी मैं ‘छोकरी ‘ को स्वीकार नहीं कर पा रहा। मैं जबरदस्ती या किसी दबाव में कभी सहमत नहीं हुआ।हो सकता है मैं गलत होऊं। या ‘छोकरी’ के संदर्भ को न पकड पा रहा होऊं। पर मैं समझना जरूर चाहूंगा1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुहमें कभी शब्द को ओछा नहीं समझना चाहिए। शब्द गरिमा कब खोते हैं? तब, जब कहन में भाव में बलाघात का इरादा कुछ और व्यक्त करते हों।’जी’ का प्रयोग भी चिढ़ा सकता है। गुस्से से भरा हो सकता है। व्यंग्य में भी कहा जा सकता है।2
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pramod Dixitबिल्कुल, मैं भी यही कह रहा हूं।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुPramod Dixit दोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pramod Dixitजरूर
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Anjali DudejaKavi to aap hi lg rhe hai1
    • हा हा
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • नवीन डिमरी ‘बादल’छोकरी शब्द ठीक नहीं है। कविता बाल मनोविज्ञान के एकदम अनुकूल भी नहीं है।2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
  • Arvind Kumar Sahuयह कविता बालमन को किस तरह प्रभावित करती है । मुझे समझ नही आया ।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
  • Pushplata Mamgain Pantछोकरी तो गाली मानते हैं देशी लोगअनाथ को छोकरी कहते हैँ2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • नवीन डिमरी ‘बादल’कुछ स्तरहीन रचनाएँ बाल मनोविज्ञान के अनुरूप न होते हुए भी पाठ्यक्रमों में स्थान पा लेती हैं। जबकि कयी स्तरीय व बाल मनोविज्ञान के अनुरूप रचनाएँ किसी षडयंत्र के तहत बाहर रखी जाती हैं। यह सब भाई-भतीजा वाद, क्षेत्रवाद, जातिवाद, धर्मवाद या अन्य प्रकार के कयी वादों से ग्रषित सक्षम व शिक्षित लोग करते हैं। ऐसे कयी अनुभव हमारे पास हैं।2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
  • Anware Islamये पाठ्यक्रम बनाने वालों को प्रणाम ।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Yashoda Raturiआम की थैली भर लायी सहेली कर दो भाई जी अगर अच्छl लगे तो1
    • हा हा
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • अमिताभ जगदीशहहह1
    • हा हा
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Vishnuprasad Chaturvediअच्छी नहीं लगी।2
    • हा हा
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Rajiv Joshiये कविता एन सी ई आर टी पहली कक्षा की किताब में है। छोकरी शब्द मुझे भी अजीब लगा। हमारे सास्कृतिक परिवेश में लड़की के लिए इस्तेमाल हो तो थोड़ा हल्का जैसा लगता है। किसी सास्कृतिक परिवेश में यह बेटियों के लिए सामान्यतया भी प्रयोग किया जाता है। वे ससम्मान ही बोल पाएंगे।इसके अलावा भी कविता में तुकवन्दी के अलावा क्या है। संदेश क्या है। ये देखना महत्वपूर्ण होगा। टोकरी में आम लेकर कोई आई है, दाम नहीं बताती है, बुला-बुलाकर बांट रही है। अब बच्चों को जब आम मिल गया तो उन्हें न नाम से मतलब न उससे, न उसके घर-बार से, न उसके स्कूल-किताब से। छोकरी से कोई सरोकार ही नहीं?अब इन्हें बस आम चूसना है। कोई कृतज्ञता नहीं। शुक्रिया नहीं। मेरा पेट भरे, चाहे कोई मरे, जैसी मस्ती लगती है। बाल साहित्य सिर्फ मस्ती के लिए ही होता है। इसी समझ पर लिखी गयी लगती है।3
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    16 जवाब छिपाएँ
    • Pushplata Mamgain Pantआपका स्वागत
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुRajiv Joshi ji…आप काफी करीब आ गए इस कविता के। आपसे ऐसी उम्मीद थी भी। बाप बहुत कुछ कह गए। क्या आप भी चाहते हैं कि हर कविता संदेष दे?
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajiv Joshiबाल कविताएं संदेश देती हैं। इस क्रम में अच्छे बच्चे मंजन करते, कुल्ला करके मुंह को धोते, मुंह धोकर के रोज नहाते…… जैसी कविताएं तो बचपन के अनुकूल नहीं हो सकती।परंतु मुझे लगता है कि उपदेश तो न ही हों नकारात्मक मूल्यों का विकास भी न करे। उक्त कविता में छोकरी बड़ी निरीह लगती है। या फिर बड़े भली है। आम बाँट रही है। दोनों ही सूरत में उसे कविता में हारना नहीं चाहिए था। अपनी मस्ती के लिए उसके आम चूस लिए। मुझे उसके लुटने का भाव दिखता है और उसको दरकिनार कर आम चूसकर बच्चे मस्ती कर जाते हैं। ये आम चूसने वाली पंक्तियाँ उस बच्ची के आम खोने को ढक देती सी लगती हैं। बाल कविताएं संवेदनाएं उकेरे तो उसे मंजिल तक पहुँचाये भी। वरना बच्चे गायें और खुश रहें।3
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुछोकरी शब्द गलत है?कैसे?फिर… तो बस भगिनी चलेगा न? या पुत्री,बेटी, दुहिता, कन्या पर…छोरी, छोकड़ी, नान्तिन, बेटी, पुत्री, लोढ़ी, लड़की, लौण्डी, डॉटर, जाक्ख्ती, नौनी और भी विस्तार दें तो गलत_सही पर और चर्चा हो सकेगी।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुअभी इस कविता का सामाजिक सन्दर्भ आना शेष है। मैं प्रतीक्षा में हूँ।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pushplata Mamgain Pantकुछ शब्द तो कविता की तुकबन्दी करने में कठिनाई होती है ।ऊपर काएक भी शब्द भी मेल खातानहींनातिन चक्की ,,,,,,,,मेल नहीँछोरी जरा देख तो ऊपर ,,चले आ रहे हैं बादलअच्छा लगता है क्या ।अम्मा जरा देख तो ऊपर चले आ रहे हैंबादलया दादीआपको पता होगा कि मां ही बच्चे के सबसे करीब होती हैं ।श्री कृष्ण जी ने भी माँ को ही सम्बोधित किया थायह कविता। चन्द्र खिलौन,,,ले ह्नों मैय्या ,,,,जै हों लोट धरणी पर अबही ,तेरी गोद न,,,,,अशुद्ध के लिए माफीयुवावस्था की कविताओं में ,सहेली मेल नहीं होता ।इसलिएसखि वे मुझ से कहकर जातेसजनि में इतनी सरल हूँ ।आपके ऊपर वाले शब्द एक भी कविता के लायक नहीं ।फिर तो सहारनपुर ,को मिलने दीजिए नहा हा हा हा हा हा हा1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुअरे, ये कविता में जोड़ने को कहां कहा?
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुबेटाक्कुमा Laughing, bear laughing स्टिकर1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pushplata Mamgain Pantनिडर और शानदार Tired, woman yawning स्टिकर
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुPushplata Mamgain Pant दोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pushplata Mamgain Pantआपका भी आभार
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Bal Vigyan KhojshalaRajiv Joshi जी, आपकी बात “हमारे सास्कृतिक परिवेश में लड़की के लिए इस्तेमाल हो तो थोड़ा हल्का जैसा लगता है। किसी सास्कृतिक परिवेश में यह बेटियों के लिए सामान्यतया भी प्रयोग किया जाता है।”, पढ़ कर मुझे बचपन में सुना एक झोड़ा याद आ गया:ओ छ्योड़ी ओ छ्योड़ा ला, हाथ दातुली ज्यौड़ा लादस रुपइयां दीग्यो ला, झन खर्चिए कैग्यो लाजाहिर है छोकरा और छोकरी तो हमारे सांस्कृतिक परिवेश में भी रहे हैं और ऐसा भी नहीं कि इस गीत में उन्हें असम्मानजनक सन्दर्भ में इस्तेमाल किया गया हो! इसके अलावा मैंने इन शब्दों को आवाज लगाकर बुलाने के लिए खूब सुना है- “ओ छयौड़ ! यां औ ला”, इस तरह.1
    • मनोहर चमोली मनुBal Vigyan Khojshala ji sahat !
    • Rajiv JoshiBal Vigyan Khojshala जी ठीक कहते हैं आप। बात समझ में आती है।1
    • मनोहर चमोली मनुएल्फ़  स्टिकर
    जवाब लिखें…
  • Shadab Alamयह खेल कविता तो नही लग रही…हाँ ‘चाइल्ड लेबर’ को इस कविता से कहीं न कहीं ज़रूर बढ़ावा मिल रहा है।1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
  • नवीन डिमरी ‘बादल’हर कोई हर कविता की समीक्षा अपने तरीके से करता है। हकीकत यह है कि इस देश में आपका लिखा तब कविता बनता है जब एक पत्रिका का संपादक उसे कविता बताकर छापता है। अगर कोई कह दे कि आपने कविता नहीं कूडा लिखा है तो सहजता से आपको भी अपनी मेहनत कूडा मानने के लिए विवश होना पडेगा। इस देश का यह सबसे बडा दुर्भाग्य है कि चंद लोग हर कहीं ठेकेदार बन जाते हैं। धर्म के ठेकेदार, साहित्य के ठेकेदार आदि। और यही जिसको चाहें उसको ताज पहना दें। इसीलिए हिन्दी साहित्य के स्टालों पर लिखा मिलता है– हिन्दी साहित्य 50₹ /किलो।2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
  • Shadab Alamनवीन जी समीक्षा अपने तरीके से ही की जाती है न कि दूसरों के तरीके से…दूसरी बात, अगर आपको कविता की समझ है और आपने अच्छी कविता लिखी है तो उस कविता को कूड़ा वही कहेगा जिसकी समझ ही कूड़ा होगी।मेरा अपना मानना है कि यदि आपने किसी रचना पर मेहनत की है तो रचना कभी अपमानित नही होगी।5
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • नवीन डिमरी ‘बादल’भाई शादाब जी मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि क्या किसी रचना को सही या गलत कहने का किसी के पास कोई ठोस आधार या पैमाना है? हो सकता है जो चीज आपको अच्छी नहीं लगे वे मुझे अच्छी लगें। किसी को खीर पसंद तो किसी को खिचड़ी। हाँ, मूल्यांकन का कोई सार्वभौमिक पैमाना तय जरुर होना चाहिए। वरना सब अपनी-अपनी ही चलाते रहेंगे।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
    • नवीन डिमरी ‘बादल’वैसे यह कविता ‘आ’ व ‘क’ वर्ण के साथ-साथ ‘ई’ की मात्रा समझाने के मनोविज्ञान पर केन्द्रित लगती है।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
  • Shadab Alamभाई रचना जिस दिन पैमाने या पैरामीटर्स के आधार पर रची जाने लगेंगी उस दिन ही रचना की मृत्यु हो जाएगी।एक रचना के मूल्यांकन का पैमाना तय करना ठीक नही।हाँ रचना पर चर्चा-परिचर्चा ज़रूर होनी चाहिए।4
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Nafees Warsiइसमें कविता जैसा क्या है भाई? न रदीफ, न काफिया। न ही तरन्नुम। इसके रचनाकार को कविता न लिख कर और लिखना चाहिए।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Nafees Warsiकुछ और1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Sharad Pandeyकविता को अखिल भारतीय स्तर पर सोचें । रचनाकार कभी संकुचित नहीं होता । छोकरी शब्द में दोष नहीं है । दोष छोकरी शब्द सामने आने पर आपके मन में आने वाली छवि में है ।4
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुवाह! शानदार बात कह दी आपने। शब्द की छवि हमारी धारणा में है।मैं ऐसी ही किसी टिप्पणी की प्रतीक्षा में था। लौड़ी, लौण्डी,जाखती., छोरी.. छोकड़ी, नान्तिन कहीं विस्तारित होंगे और सम्मानित । इसी तरह बुढ़िया शब्द पर भी हम संकुचित हो जाते हैं।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
  • Mohan Chauhanबाहद खराब कविता1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Alka Agrawalइस कविता से बालमन को भी कोई मजा नहीं आएगा ।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुजी, बेशक!इस कविता को आयु 2,3,4,5 साल के बच्चों को अलग-अलग बार सुनाया।6,7 ही नहीं 12 से 16 साल तक के बच्चों के साथ सस्वर, आदर्श, मौन और समूह में वाचन करवाया। श्यामपट्ट पे भी लिखवाया। बात की। बच्चों ने कभी नहीं कहा कि इसमे आनन्द नहीं आया। इस पर विस्तार से फिर कभी कि बड़े बच्चों की कविता पर, लड़की पर क्या-क्या राय दीं। आप सभी का आभार।2
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।2
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Satish Chitravanshiअच्छा किया मनोहर जी आपने इस विषय को ‘जहां है जैसा है’ की तर्ज़ पर समाप्त करने की पहल की । मैंने इस कविता पर लिखी गयी सभी टिप्पणियां पढ़ीं । कुछ तल्ख़ रुझानों को छोड़ दें तो यह प्रकरण एक गोष्ठी जैसी सार्थकता से जान-अंजाने सज गया ब्लकि साहित्य के सरोकारों, कामनाओं और मंतव्य जैसे कुछ तथ्यात्मक बिंदुओं पर ताज़ा सवाल भी खड़े कर गया …आप सब जो इस बहस-मुबाहसे के क़िरदार हैं उन को मेरी इस टिप्पणी से आश्चर्य हो सकता है जब मैं यह कहूं कि मनुष्य ने जब अपनी पहली कविता या गान रचा होगा तब से ले कर आज जब हमारे सामने साहित्य-सृजन जैसा पूरा एक कार्य-व्यापार बन चुका है, साहित्य के कथित मानकों की परिपक्वता भी पर्याप्त है, तब भी एक छोटी-सी रचना पर मतैक्य होना लगभग असंभव-सा लग रहा है तो उस आदि कविता की व्याख्या या उस के नीहितार्थ की पड़ताल करने और प्रकारांतर से एक निश्चय-धर्मी स्थिति तक पहुंचने में कितनी कठिनाइयां उपस्थित हुईं होंगी जब हमारे पास कविता को समझने के भी औजा़र (संवेदनादि…)नहीं थे ?मैं आप सब को विनम्रता के साथ इस संकट की प्रतीति कराना चाहता हूं …आप सब कुछ भी कहें पर मुझे तो इस चर्चा में कुछ नये प्रश्नों से दो-चार होने का मौक़ा मिला और वे ये हैं कि कोई साहित्यिक रचना या कला-कृति पाठक या दर्शक पर जो प्रभाव छोड़ती है उस में संदर्भित रचना के भौतिक गुणों (जिन्हें काव्य-शास्त्र या कला-मानकों के अनुसार परिभाषित किया जाता है) के अतिरिक्त पाठक या दर्शक (अगर वह चाक्षुक कला है तो) के अपने जातीय (जाति के संकुचित अर्थ में नहीं बल्कि समूह के अर्थ में) संस्कार तथा निजी अनुभव-वितान पर आधृत होते हैं और चूंकी इन कारकों में साम्य संभव नहीं है इस लिये रचना के प्रभाव (या प्रतिफलन) में एक-रूपता कैसे संभव है ? और ये विविधता ही सृष्टि का नियम है, ख़ूबसूरती भी है । इस लिये इस की कामना ही व्यर्थ है । इस विविधता में ही सृजन का मनोविज्ञान है, वैभव है और सार्थकता भी है । और चूंकि ये सभी अव्यव्य अपने चरित्र में स्थिर नहीं हैं इस लिये लिये इन की परिणति या प्रतिफलन भी स्थिर नहीं हो सकते । ये पूरा का पूरा प्रकरण कालातीत होते हुये भी काल और समय सापेक्ष है । यही कारण है (अगर साहित्य की बात करें तो ) कि आचार्य राम चंद्र शुक्ल से ले कर राम विलास शर्मा या नामवर सिंह तक के अब तक के आलोचना के मानक स्थिर नहीं हैं, कुछ बिंदुओं को छोड़ कर । हमें अपने पूर्ववर्ती धारणाओं से एक ख़ाक़ा या ढांचा तो मिल सकता है पर उस को मुक्कमल्ल करने के आयाम हमें जोड़ने पड़ते हैं और इस प्रक्रिया में समसामयिक तत्व का आ जाना स्वाभिक या कहें अवश्य संभावी है । यही हमारी समझने और मूल्यांकन करने की दृष्टि को पुष्ट करती है । यही कारण है एक समय (या काल-खंड) की उत्कृष्ट रचना आज हमें अप्रासांगिक लगने लगती है । संदर्भित कविता के संदर्भ में भी यही हो रहा है । इस लिये पक्ष-विपक्ष के सभी तर्क अपने में पूर्ण न होते हुये भी तथ्यात्मक हैं और एक विद्वत चर्चा को जन्म देते हैं । यही इस की उपादेयता भी है…इति…2
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • Sharad Pandeyएक बडी क्लास में बोर्ड पर 0 बनाया गया । पूरी क्लास ने उसे एक स्वर से जीरों बताया । एक छोटी क्लास में 0 बनाया गया । क्लास ने उसे रोटी, सूरज, चांद, गोला बता नहीं क्या-क्या बताया । ऐसा ही कुछ हम लोगों की फेसबुक क॔मेंट पर होता है । हम typed हो जाते है । हम वास्तविकता के हिसाब से नहीं अपनी छवि के हिसाब से मत अभिव्यक्त करते है । सतूत ऐसा कर हम अंतत संकुचित हो जाते है । जरूरत है । मन के खिड्रकी -दरवाजों को खोलने की । रचनात्मकता को स्वीकार करने की । साहित्यकार समाज का निर्देशन करता है ।3
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    15 जवाब छिपाएँ
    • मनोहर चमोली मनुजी, बेशक!इस कविता को आयु 2,3,4,5 साल के बच्चों को अलग-अलग बार सुनाया।6,7 ही नहीं 12 से 16 साल तक के बच्चों के साथ सस्वर, आदर्श, मौन और समूह में वाचन करवाया। श्यामपट्ट पे भी लिखवाया। बात की। बच्चों ने कभी नहीं कहा कि इसमे आनन्द नहीं आया। इस पर विस्तार से फिर कभी कि बड़े बच्चों की कविता पर, लड़की पर क्या-क्या राय दीं। आप सभी का आभार।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiमनोहर चमोली मनु जी, बच्चों को सही गलत का ज्ञान नहीं होता। उन्हें हम छोकरी टोकरी नौकरी डोगरी कह कर हल्ला मचवाते रहें वो मचाते रहें गे। कविता में न तो rhyme है नहीं rhythm , न ही कोई system . और न ही कोई moral1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiमैंने शायद एक बार आपकी एक बाल कथा पढी थी कहीं। जिसमें एक बच्ची पिंजरे में बंद एक तोते को अपने मुँह का चुइंगम खिला देती है। कथानक इस प्रकार से प्रस्तुत किया गया था, कि मनोरंजन के साथ साथ एक अच्छी शिक्षा भी थी। संभवत कहानी आपकी ही थी।1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुजी, वो मेरी ही है।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुतो क्या उसमें नैतिकता ठूंसी है?
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiमनु जी, कम से कम बाल साहित्य में तो थोङी बहुत नैतिकता होनी ही चाहिए।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुक्यों?
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiनैतिकता न हो, तो फिर क्या हो? फूहङता , अश्लीलता, बदतमीजी।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुजी नैतिकता के लिए घर है। धर्म ग्रन्थ हैं। स्कूल है। हम बड़े-बुजुर्ग हैं न। साहित्य का पहला मकसद तो आनंद है। रस को हासिल करना है। अपने अनुभवों को समृद्ध करना है। किताबों से यदि राष्ट्रनिर्माण ईमानदारी आ जाती तो सबसे पहले नेताओं को किताब………..1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुNafees Ansari ji जी, लेकिन मैं तो सोचता हूं कि सही गलत का ज्ञान तो आजीवन हम सीखते-समझते रहते हैं। सही गलत का ज्ञान कराने की जिम्मेदारी साहित्य की नहीं है। साहित्य के मक़सद को समझना होगा। पाठ्य पुस्तक में शामिल साहित्य के मक़सद को समझना होगा। मेरी दो पोस्ट ज़रूर पढ़िएगा। जो पाठ्यपुस्तकों में शामिल लाठी लेकर भालू आया वाली है और उठो लाल अब आंखें खोलो वाली दोनों पोस्ट में मेरे मत को जरूर पढ़िएगा। रही बात हो हल्ला मचाने की तो आजाद भारत के बाद के बाद से ही मचे हो-हल्ले का इतिहास क्या कहता है। सवाल चेतना का है। संवेदना का है। हां लय,ताल, छंद और गेयता पर बात हो सकती है। नैतिकता के पक्ष में स्वयं न बच्चे रहते हैं और न ही मनोविज्ञानी और न ही शिक्षाशास्त्री।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiबात यहां बाल साहित्य की हो रही है, प्रौढ साहित्य की नहीं।क्या कविता घर में नहीं पढी जानी चाहिए? वह भी बुलंद आवाज में।मुझे इससे कुछ नहीं लेना कि यह कविता किस महान कवि की है।इधर में कई लोगों को यह कविता सुना चुका हूँ। लोग तैयार नहीं हैं इसे बाल कविता मानने पे। जहां तक विधा की बात है तो इसमें न तो लय है, न छंद और न ही गेयता।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiहालांकि , मैंने रवि जी की पोस्ट देखी और सुनी है। परंतु उनसे पूछा जाए कि यदि उनकी भतीजी किसी की टोकरी से बिना पूछे आम उठाकर चूसने लगे, तो उन्हें कैसा लगेगा?1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुअंसारी जी,बाल साहित्य की नहीं स्कूली पाठ्य पुस्तकों में शामिल कविताओं पर बात हो रही है।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiबात वही है1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुआपने दमदार बात कही है।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Anupama Gupta Kesharwaniमैंने अपनी बेटी की पाठ्यपुस्तक में इस कविता को पहली बार पढ़ा।मुझे और बेटी,दोनों को ही आनन्दित किया इसने।कुछ तो है इस कविता में,जो बालमन को बेहद नज़दीक से छूता है।3
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Anupama Gupta Kesharwaniछूने के बाद क्या प्रभाव डालता होगा,यह psychoanalysis का विषय है।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Anupama Gupta Kesharwaniजैसे हम मिश्रित समाज में रहते हैं,वैसे ही बच्चों का exposure/परवरिश भी मिश्रित समाज में होती है/होनी चाहिए।न पूर्णतः आदर्श,न ही पूर्णतः उच्छृंखल!1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Anupama Gupta Kesharwaniकृपया सुधीजन मार्गदर्शन करें।सादर2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Rajesh Utsahiताजुब्‍ब हुआ इस कविता पर लोगों की राय पढ़कर। इनमें से बहुत सारे शिक्षक भी हैं। और नवाचारी शिक्षक भी। आपने अब तक कवि का नाम नहीं बताया है। कवि का नाम मैं जानता हूँ। लेकिन आपने नहीं बताया तो मैं भी अभी नहीं बताऊँगा। पर यह तो बता ही सकता हॅूं। कि यह कविता तब लिखी गई थी, जब टिप्‍पणिकर्त्‍ताओं में से बहुत से पैदा भी नहीं हुए होंगे। मैं भी पैदा नहीं हुआ था। लगभग 1940 के आसपास। और यह कविता उस समय की मशहूर बाल पत्रिका ‘बालसखा’ में प्रकाशित हुई थी। 50 वर्षों से अधिक समय तक यह पत्रिका प्रकाशित होती रही। इस पत्रिका को रामनरेश त्रिपाठी,लल्‍लीप्रसाद पाण्‍डे और राष्‍ट्रकवि सोहन लाल द्विवेदी जैसे नामचीन साहित्‍यकारों ने संपादित किया। बालसाहित्‍य के पितामह कहे जाने वाले निरंकारदेव सेवक, के अलावा डॉ.श्रीप्रसाद और हरिकृष्‍ण देवसरे जैसे तमाम लेखकों की रचनाएँ इस पत्रिका में प्रकाशित हुईं। तो कविता में ऐसा कुछ तो जरूर ही रहा होगा कि वह बालसखा में जगह पा गई।3
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
    • मनोहर चमोली मनुये सब मैं सोच-समझकर कर रहा हूँ। कोशिश रहेगी कि एक-एक कविता पर बाद में विस्तार से बात करूंगा। बात करनी तो है। दोस्तों की टिप्पणी आने देते हैं, अभी!
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajesh Utsahiमनोहर चमोली मनु हो सकता है, आप मुझसे सहमत न हों। पर ऐसी पॉंच-दस कविताओं पर बात करने से भी उद्देश्‍य पूरा हो सकता है। आपने इसे बहुत लंबा खींच दिया है। अब विराम दें और विमर्श करना आरम्‍भ करें।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiकहीं कोई रचना जगह पा जाए, तो इसका मतलब यह नहीं कि वो स्तरीय ही है। अमिताभ बच्चन की सभी फिल्में हिट नहीं रही हैं। मीर ओ गालिब के कलाम में भी गलतियां मिली हैं ।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajesh UtsahiNafees Ansari लेकिन काेई रचना अगर पचास साल बाद भी लोगों का ध्‍यान अपनी ओर खीचें और इतना खीचें कि उसे पाठ्यपुस्‍तक में रखा जाए, तो कुछ तो बात होगी ही न।1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiप्रेम चंद की ईदगाह भी बाल कथा की श्रेणी में नहीं आती।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Nafees Warsiपाठ्यपुस्तक में रचनाएं लगवाई भी जाती हैं। और राजनीतिक उद्देश्य से हटाई भी जाती हैं। आप ही बताइए इस कविता में क्या बात है।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajesh UtsahiNafees Ansari वह तो आपको मनोहर जी बताएंगे ही। इंतजार करें।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुनहीं, अभी बहुत सी कविताएं और देना चाहूंगा। दोस्त भी तो राय दें। कवि, सन्दर्भ तलाशें।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Bandhu Kushawartiराजेशजी,आपके लिये एक ज़रूरी संशोधन।#ध्यान दें आप भी तथा और लोग भी— *पं.रामनरेश त्रिपाठी ने ‘बालसखा’ पत्रिका का सम्पादन कभी नहीं किया।*रामनरेश त्रिपाठीजी ने सन्१९३२ से ‘बानर’ नाम से बच्चों के लिये पत्रिका निकाली थी।यह अपने समय में श्रेष्ठ बालपत्रिका थी,जिसे कुछ वर्ष प्रकाशित करने के बाद त्रिपाठीजी को बन्द करनी पडी़ थी।*कुछ वर्ष बाद पुनः त्रिपाठीजी ने ‘बानर’ को प्रकाशित किया था।परन्तु स्वास्थ्यगत कारणों से उनका लेखन तथा अपनी सक्रियणयताएँ प्रभावित हुईं तो ‘बानर’ को भी अन्ततः उन्हें बन्द कर देना पडा़।1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • Anupama Tiwariमिप Worried, face with cold sweat स्टिकर
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनुयही तो बात है। कहते हैं कि अस्सी फीसद शिक्षक आधुनिक कविताओं को समझते नहीं, समझाने लगते हैं। ऐसा ही इन कविताओं के साथ है। समझना हम चाहते नहीं और समझाने लगते हैं।
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • नवीन डिमरी ‘बादल’कुल मिलाकर मैं इस नतीजे पर पहुँचा हूँ कि हर कोई अपने को अच्छी लगने वाली या अपनी लिखी रचना को ही सर्वश्रेष्ठ मानता है। जो मानक मैंने तय किये वे सही बाकी सब बेकार। यही चल रहा और चलाया जा रहा है चाहे बच्चों को रचना अच्छी लगे या न लगे!1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुनतीजे में पहुंचने का आपको अधिकार है। मुझे इसकी जल्दी नहीं रहती। मुझे तो लगता है कि कोई भी रचनाकार अंत समय तक भी श्रेष्ठ लेखन की खोज में लगा रहता है। मैं का शिकार यदि तार्किक बात नहीं करता और उसकी बात में वास्तविक ऊँचाई नहीं होती है, तो कोई भी उसकी बात का समर्थन नहीं करेगा।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुअब आप क्या कहेंगे?1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • नवीन डिमरी ‘बादल’वैसे यह कविता ‘आ’ व ‘क’ वर्ण के साथ-साथ ‘ई’ की मात्रा समझाने के मनोविज्ञान पर केन्द्रित लगती है।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Pushplata Mamgain Pantमाना कि ई पर इंगित है । पर बहुत अच्छी नहीं ।कोई भी बात कवि की पूरी नही हो पा रही है ।फिर एक बार पहले भी छोकरी पर चर्चा हुई थी ।यह भी जरूरी नहीं कि ,बहुत पुरानी है ।सबको पसन्द आ जाये ।आप बुरा न माने कभी कभी ,मुझे राष्ट्रपति पुरस्कार विजेता की भी कविता पसन्द नही आती ।शायद मेरी समझ कुछ कम हो या मेरा साहित्य का ज्ञान कम हो ।कुछ नही कह सकते ।1
      • हा हा
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुPushplata Mamgain Pant जी
    • Pushplata Mamgain Pantमनोहर चमोली मनु आज एक वर्ष बाद कैसे जबाब दे दिया मित्रबर ।इससे अच्छा तो पहले था जब मैं पत्रिका में आपकी कहानी पढ़ती थीआज भी याद है अगर वे स्कूल आ जाते या नहीं आते । हल्की याद है कहानीआशा है आप परिवार सहित कुशल होंगे1
    • मनोहर चमोली मनुPushplata Mamgain Pant जी,
    • मनोहर चमोली मनुPushplata Mamgain Pant जी नमस्ते । मैं ठीक हूं। आपकी कुशलता चाहता हूं।
    जवाब लिखें…
  • रावेंद्रकुमार रविअगर इस कविता को सुनना है, तो इस कड़ी का अनुसरण कर सकते हैं – https://www.facebook.com/raavendra.ravi/posts/102093785434950112
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनुअभी भी एक बड़ा और खास सन्दर्भ पकड़ से बाहर है।
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Faheem Ahmadयह कविता छोटे बच्चों (4 से8)आयु वर्ग के लिए बिल्कुल उपयुक्त है।छोकरी शब्द लड़की का पर्यायवाची है।इस शब्द में कोई ख़ामी नही है,हाँ मानसिकता में ख़ामी ज़रूर हो सकती है। बच्चे आपस में खेलते हुए आनन्द पूर्वक गा रहे हैं।हमारी या आपकी कोई बेटी और अन्य बच्चे इस तरह आम की टोकरी लेकर खेलते हुए गाएँ और आनन्दित हों तो क्या बुराई है।साहित्य का प्रथम उद्देश्य मन की खुशी है जो इस कविता में भरपूर है।जो लोग इसमें नैतिकता,उपदेश, शिक्षा आदि ढूंढ रहे हैं वे पुनर्विचार कर सकते हैं।5
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुआपकी टिप्पणी पढ़ी। इस नज़रिए को सलाम।काश! हम आपकी बात की तह में जा पाते!1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुमैंने समग्रता में आज अपनी बात कह दी है। आभार आपका।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनुकवि ने भी सोचा न होगा कि सुदूर उत्तराखण्ड के पौड़ी जनपद के ग्रामीण विद्यालय के बच्चे उनकी कविता पर इतने बेहतरीन सवाल उठा रहे होंगे। अब सोच रहा हूँ कि इस कविता पर छह-सात साल के बच्चे तो मौखिक सवालों की बारिश करेंगे।1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनुदोस्तों अब आप इस कविता के कवि, सन्दर्भ और मेरी टिप्पणी पढ़ सकते हैं।1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Rajesh Utsahiमनोहर चमोली मनु जी यह कविता देबाशीष देव जी की नहीं है। इनका तो नाम भी मैं पहली बार सुन रहा हूँ। यह कविता रामकृष्‍ण खद्दर जी की है। मैंने इनबॉक्‍स में भी आपको बताया था।2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुओह हाँ, अभी संपादित करते हैं।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Bandhu Kushawartiराजेशजी,मैं आपके संशोधन कि चर्चा का विषय बनी हुई यह कविता ‘खद्दरजी’ की है,विषयान्तर कर रहा हूँ–अब इसका क्या करें कि सरकारों द्वारा तैयार करायी गयी स्कूली पाठ्यक्रमों की (इनसे बाहर की भी)कि़ताबों में कितनी ही कविताओं का कवि मूलतःतो अन्य कोई है,और नाम उस पर किसी और का ही चस्पाँ कर दिया गया है।अकेले ‘खद्दरजी’ ही ऐसी विडम्बनापूर्ण ग़लती के शिकार नहीं हुए हैं।सोहनलाल द्विवेदीजी की एक कविता कभी निरालाजी के नाम से तो कभी बच्चनजी के नाम से छपती रही है।सरकारों द्वारा तैय्यार करायी गयी पाठ्य- पुस्तकों में यह तमाशेबाजी सन्१९७७-‘७८ के बाद से जो नौकरियों में आकर इस(पाठ्य-पुस्तक तैयार करने के) दाय या जि़म्मेदारी में लगे हैं,उन्होंने बेहद गैरजि़म्मेदराना ढंग से उपर्युक्त कि़स्म की घपलेबाजियाँ की हैं।यह सब भी हमारी चिन्ता का विषय निश्चित रूप से होना चाहिये!1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Bandhu Kushawartiमनोहरजी!आप यहाँ सम्पादित करके नाम दुरुस्त कर लेंगे,पर बाकी़ की प्रतियों में?वहाँ तो ग़लत नाम ही सन्नाम चलेगा!1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    • Rajesh UtsahiBandhu Kushawarti जहाँ तक मेरी जानकारी है, किताब में नाम सही है। यहॉं मनोहर जी से भूलवश ऐसा हो गया है।1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुरामकृष्ण शर्मा जी की ही है बंधु जी, गलत नाम नहीं छपा है। आम की टोकरी पाठ के लेखक का पाठ इस कविता से पहले है। किताब में नाम अंत में दिए हैं। एक क्रम मुझसे बिगड़ गया।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    • Bandhu KushawartiBandhu Kushawarti राजेशजी,फिर तो भूल-सुधार हो ही।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुमनोहर चमोली मनु जी मुझसे हुआ है। माफी चाहता हूँ।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Rajesh Utsahiमनोहर चमोली मनु मतलब यह कि रिमझिम में जो पाठ है, उसका नाम ‘आम की टोकरी’ है। और यह कविता उस पाठ का एक हिस्‍सा है। कविता रामकृष्‍ण खद्दर जी की है। पर एक और बात….मेरा अब भी मानना है कि शायद यह पूरी कविता रामकृष्‍ण जी की शायद नहीं है। इसमें बाद में कुछ जोड़ा-घटाई हुई है। दरअसल यह शोध का विषय है।
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुRajesh Utsahi1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • मनोहर चमोली मनुनहीं, इस पाठ से पहले आम की कहानी पाठ चित्र कथा है। जिसके रचनाकार देबाशीष देव हैं।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Archana Tiwariमैंने इसपर तमाम टिप्पणियां पढ़ीं। मनु जी की पोस्ट पर उनकी टिप्पणी के साथ बच्चों के कई प्रश्न देखे जो वाक़ई अद्भुत हैं! मुझे तो बहुत सारे ख्याल आने लगे हैं कि कल विद्यालय में क्या क्या करना है।इन प्रश्नों को देखकर एक बात जो समझ में आ रही है वह यह कि शिक्षक द्वारा कुछ बताने के बजाय बच्चों को ही बताने का अवसर दिया जाना चाहिए। मुझे लगता है कि इससे शिक्षक को भी बहुत कुछ सीखने को मिलेगा जो उसने अभी तक नहीं सीखा।5
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
    • Bandhu Kushawartiअध्यापन में बच्चों से सीखने-जानने और समझने का भी भरपूर अवसर रहता है,बशर्ते बच्चों तक से सीखने-जानने की ललक और सदिच्छा हो!अर्चनाजी,जो ख़यालों में आ रहा है,उसको व्यावहारिकता की पटरी पर आप उतार कर ला सकती हैं!ख़याली-पुलाव ही नहीं रह गया,यह तो आप ही बतायेंगी।3
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    • Archana TiwariBandhu Kushawarti जी बिलकुल। कल हमारी कक्षा में कविता के साथ बच्चों द्वारा प्रश्न बनाने की गतिविधि की जाएगी।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    • Bandhu Kushawartiअर्चना तिवारीजी,शुभस्तु।निरीक्षण अप्रत्याशित!1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
      •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • Archana Tiwariइस पोस्ट को दोबारा साझा कर दीजिए। जैसे मेमोरी वाली पोस्ट दोबारा साझा करते हैं। बार बार खो जा रही है। इतनी देर से ढूंढ रही थी।1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनुदोस्तों, इस पोस्ट को चित्र के साथ और सभी की टिप्पणियों के साथ दोबारा पढ़िएगा तो शायद कुछ बातें और निकलेंगी। सभी का आभार।1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • Archana Tiwariइसको ऊपर भी डाल दीजिये।1
      • लाइक करें
      •  · जवाब दें
      •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • डॉ. प्रणय● कायाकल्प से गुजरना है मनु जी !
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Bhaskar Choudhuryमुझे बिल्कुल भी याद नहीं था कि यह कविता कब लिखी गई और किसने लिखी पर मैं इसे कई बार पढ़ गया और मुझे यह बहुत बहुत अच्छी लगी.. मुझे लगता है कि यह कविता बच्चों को भी बहुत पसंद आई है और इसका प्रमाण उनके सवाल हैं. इन सवालों में नैतिकता भी है जिसे किसी ने घोल कर नहीं पिलाया है और मेरी समझ में नैतिकता रटने रटाने की चीज है भी नहीं..इस शानदार पोस्ट के लिए मनोहर जी को हार्दिक बधाई1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • Deepak DeopaBahut sundar kavita hai ye meri bitiya ne ise purna rup se enjoy kiya tha1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Vinod Miyanअति सुन्दर1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Ashwini PatilBahut umda kavita hai yah1
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • जीत यायावरसवाल शानदार है। यह ठीक बात है कि ‘सोचने’ वाले सवाल हमें सीमाओं से आगे ले जाते हैं।2
    • बहुत पसंद
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनुदिनेश कर्नाटक जी, Mahesh Bawari Ji, Mahesh Punetha ji
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनु3
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनु3
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनु3
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • मनोहर चमोली मनुछात्रों ने छोकरी की कल्पना कुछ इस तरह अभिव्यक्त की।1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
    • Ritika Sriमनोहर चमोली मनु bahut badiya. Iss kavita ke upar aise bachchoin ko likhne k liye aur sochne k liye bola ja sakta hai , Maine to socha bhi nahi the🤔Bachchoin ne bahut achche se bataya hai ‘6 saal ki chokri’ ke bare mein !1
      • बहुत पसंद
      •  · जवाब दें
      •  · 50 सप्ताह
      •  · संपादित
    जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनु,,
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 3व
  • Ritika SriYe kavita Muskan ki Balwadi mein bhi hoti hai 😊1
  • Jagmohan ChoptaWah saandaar1
  • Dinesh Patelलेकिन ये कविता तो एकलव्य प्रकाशन ने अपने एक कविता संग्रह में किसी और नाम से प्रकाशित की है?1
  • Deepak Gaurमेरे ख्याल से काटकर1
  • Rajesh Khatriबहुत सुन्दर सरप्रश्न बहुत बढिया है भाषायी विकास के लियेऔर जिज्ञासा जागृत करने के लिये।1
  • Kamla JoshiGIF रोकेंGIF में beautiful, flower और rose हो सकते हैंTenor1
  • Santosh NegiYe shabd nhi apshabd hai1जवाब लिखें…
  • Goodwin Masihchamoli ji aap bhi achchi bahas chidva dete hain1
  • Jitendra Sngh NegiNice and cool1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · अनुवाद देखें
    •  · 42 सप्ताह
    जवाब लिखें…
  • Jitendra Sngh NegiStories Stickers in Feed the text 'so proud' with lines for emphasis स्टिकर1
  • Sandhyamit Bahuguna[Newsfeed] #TogetherAtHome A pair of medium-brown-toned hands clapping with the word 'Super!' written below them. स्टिकर1
  • Jitendra Sngh Negiवाइल्ड अबाउट इंडिया  स्टिकर1
  • मनोहर चमोली मनुji
  • Deepak Gaurवास्तव में शानदार1मनोहर चमोली मनु ने जवाब दिया ·3 जवाब
  • Aap KA Saklaniआम को चूस कर ही खाना होता है ये इस कविता से भी साबित होता है तो फिर अक्षय कुमार साहेब को क्यों पूछ रहा था कि आम चूस कर खाते हो या काट कर…..1
  • Pooja SinghVery nice👏👏1
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · अनुवाद देखें
    •  · 7 सप्ताह
  • Prabodh Uniyalसुंदर1
  • मनोहर चमोली मनुGIF प्ले करेंGIPHY
  • Kavita Tiwariवाह! बहुत ख़ूब।1जवाब लिखें…
  • मनोहर चमोली मनुji
    • लाइक करें
    •  · जवाब दें
    •  · 1मि

कमेंट लिखें…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!