• ‘नया साल, कोरोना और हम’

    किसी परिवार का एक सदस्य नहीं, दो नहीं….बल्कि सभी के सभी कोरोना पॉजीटिव हो जाएं तो चिंतित होना स्वाभाविक था। ………………. बशीर बद्र साहब को कहाँ पता था कि उनका ये शेर 2020…

error: Content is protected !!