चित्र कथा: दोस्त के घर में

पापा हैं?
पापा तो आज ही पटियाला गए हैं।
ओह! तुम्हारा बड़ा भाई तो होगा? उसे बुला दो।
वो तो काॅलेज गया है।

तो मम्मी को ही बुला दो!
मम्मी चाची के साथ बाज़ार गई है।
तो तुम घर में क्या कर रही हो? तुम भी कहीं चली जाती!
मैं कौन-सा अपने घर में हूँ।

प्लूटो, दिसम्बर-जनवरी 2020

PLUTO,Dec-Jan 2020

मतलब?
मैं अपनी दोस्त के घर में हूँ। शबनम, यहाँ आओ। कोई तुम्हारे पापा से मिलने आए हैं।
-मनोहर चमोली ‘मनु’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!